November 29, 2023

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि 19 दिसंबर को बहुप्रतीक्षित प्रशिक्षण और संवाद का कार्यक्रम होने जा रहा है। दो चरणों में हुए चुनाव में कुल 394 नगरीय निकायों में आप सभी जनप्रतिनिधि निर्वाचित होकर आए हैं। निर्वाचन में अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण को भी सुनिश्चित किया गया है। मेरा अनुरोध है कि आप सभी लोग 19 दिसंबर को भोपाल पधारें। यह एक संगम होगा, जिसमें नगरीय विकास की रूपरेखा, उसकी प्राथमिकताएँ और आपके लक्ष्यों पर चर्चा होगी। इस कार्यक्रम में विकास के नए सोपान लिखे जा सकेंगे, तथा प्रशिक्षण के माध्यम से एक-दूसरे से सीखना और प्रेरणा पाना भी संभव हो सकेगा।

मंत्री श्री सिंह ने कटनी से वीडियो कॉफ्रेंसिंग से सभी नगरीय निकायों से अधिकारियों से चर्चा की।
मंत्री श्री सिंह ने कहा कि अपने वार्ड एवं निकाय मैं बेहतर नागरिक सुविधाओं का विस्तार करना आप लोगों का लक्ष्‍य होगा और यह आपकी चुनौती भी है। नगर राज्य के विकास का इंजन होते हैं। प्रत्येक व्यक्ति अपनी संभावनाएँ तलाशने के लिए शहर आता है। यहाँ शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार के अवसर उपलब्ध होते हैं। इसीलिए नगरीय योजनाओं और नगरीय विकास का क्रियान्वयन लगातार एक चुनौती पूर्ण कार्य रहा है।
विगत 15 वर्षों से मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के मार्गदर्शन में हमने विकास को एक नया आयाम दिया है। मुख्यमंत्री ने नगरीय विकास को सदेव अपनी प्रथम प्राथमिकताओं में रखा है, तथा इसके लक्ष्य को प्राप्त करने में किसी भी तरह की कोर कसर नहीं छोड़ी है। हमें प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नगरीय विकास को नए आयाम मिले हैं। स्मार्ट सिटी,अमृत मिशन, राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन, प्रधानमंत्री आवास योजना और स्वच्छ भारत मिशन ने शहरी परिदृश्य को पूर्ण रूप से परिवर्तित कर दिया है। अब हमारे शहर समस्या से ज्यादा संभावनाओं को जन्म देने वाले बन गए हैं। मध्य प्रदेश सभी प्रमुख योजनाओं में देश के प्रथम तीन स्थानों पर रहा है। यह मुख्यमंत्री की अभिप्रेरणा पर आप सभी लोगों के साथ और विश्वास से संभव हो सका है।

श्री सिंह ने कहा कि राज्य शासन ने शहरों में रहने वाले नागरिकों को उनकी सुविधाएं उपलब्ध कराने की दृष्टि से अनेक नई पहल की है, जिसमें ऑटोमेटेड बिल्डिंग परमीशन, बेहतर राजस्व प्रबंधन हेतु डबल एंट्री अकाउंटिंग सिस्टम, ई-पालिका प्लेटफार्म से सभी प्रकार की नागरिक सुविधाओं के प्रदाय करना आदि प्रमुख हैं। लोगों को असुविधा न हो इस बात को दृष्टिगत रखते हुए अनाधिकृत कॉलोनियों को विकसित करना हमने अपनी प्राथमिकता में रखा है। प्रावधानों में भी आवश्यकता अनुसार संशोधन विगत वर्ष किए गए हैं। हमें प्रदेश की प्रगति के लिए आप सभी का सहयोग अपेक्षित है और आपके के माध्यम से हम प्रदेश की जनता को ना केवल नागरिक सुविधाएं उपलब्ध करा सकेंगे बल्कि शहरों का विकास का एक नया माडल बनायेंगे। हमारी कोशिस है कि निर्वाचित जन-प्रतिनिधियों को अधिकार संपन्न बनाया जाय। उन्होंने कहा कि सुझाव लिखकर जरूर लायें। ऐसी कार्यशाला इसके बाद भी आयोजित की जायेंगी।

प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास श्री नीरज मण्डलोई ने कहा कि कार्यशाला सह सम्मेलन में आपके सुझावों पर गंभीरता से विचार किया जायेगा। साथ ही आपके सुझावों पर महत्वपूर्ण निर्णय लिये जा सकेंगे। आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं विकास श्री भरत यादव ने कहा कि कार्यशाला में सुझाव पेटी भी रखी जायेगी, जिसमें जन-प्रतिनिनिधि अपने लिखित सुझाव डाल सकेंगे। उन्होंने कहा कि जन-प्रतिनिधियों का प्रशिक्षण प्रशासन अकादमी में भी कराया जायेगा। उन्होंने व्यवस्था के संबंध में भी जरूरी निर्देश दिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *